You are currently viewing कक्षा 8 मॉडल पेपर हिन्दी
कक्षा 8 मॉडल पेपर हिन्दी

कक्षा 8 मॉडल पेपर हिन्दी

RSCERT द्वारा जारी किए गए प्रारम्भिक शिक्षा पूर्णता प्रमाण-पत्र परीक्षा 2023 के कक्षा 8 मॉडल पेपर हिन्दी विषय के सभी प्रश्नों को हल किया गया है. जिसका उद्देश्य छात्रों को इस मोडल पेपर की समझ बन सके. अगर आप कक्षा 8 की इस परीक्षा में सम्मिलित हो रहे है तो यह लेख आप के लिए अति महत्त्वपूर्ण हो सकता है.

प्रारम्भिक शिक्षा पूर्णता प्रमाण-पत्र परीक्षा 2023

नमूना प्रश्न पत्र (मॉडल पेपर)

कक्षा – 8

विषय –हिन्दी

समय – 2.30 घंटे                                      पूर्णांक – 80

वस्तुनिष्ट प्रश्न – सही विकल्प चुनकर कोष्ठक में लिखिए

प्रश्न – 1 वर्ष पर्यन्त बदलने वाली ऋतुओं में से किस ऋतु के लिए ‘ऋतुराज’ शब्द का प्रयोग किया जाता है? 1

          (अ) हेमन्त ऋतु    (ब) ग्रीष्म ऋतु   (स) बसन्त ऋतु   (द) शीत ऋतू      ( )

उत्तर –  (स) बसन्त ऋतु

प्रश्न – 2 चिड़िया जब घोंसला बनाती है, तब वह अपनी चोंच से किस चीज को दबाकर ले जाती दिखाई देती है?  1

          (अ) पत्थर   (ब) तिनके     (स) इंट      (द) पानी      ( )

उत्तर – (ब) तिनके

प्रश्न – 3 पुडुकोट्टई (तामिलनाडु) में महिलाओं के लिए कौनसा कार्य सामाजिक आन्दोलन बन गया था?  1

          (अ) व्यापार करना   (ब)  साइकिल चलाना  (स) विद्यालय में पढ़ाना  (द) खेती-बाड़ी करना   ( )

उत्तर – (ब)  साइकिल चलाना

प्रश्न – 4 ‘मोहन चूड़ियाँ बेचने का कार्य करता है’ मोहन का पेशा कहलाएगा –    1

          (अ) लोहारी   (ब) सुनारी  (स) सुधारी   (द) मनिहारी   ( )

उत्तर – (द) मनिहारी

प्रश्न – 5 हिन्दी सिनेमा में ‘आलम आरा’ फिल्म अपना एक महत्वपूर्ण स्थान रखती है, क्योंकि –    1

(अ) यह पहली बोलती फिल्म है।   

(ब) यह इतिहास को बदलने वाली फिल्म है।

(स) यह राजनीति पर आधारित फिल्म है।

(द) यह बिना पटकथा की फिल्म हैं।  ( )

उत्तर – (अ) यह पहली बोलती फिल्म है

प्रश्न – 6 कृष्ण की चोटी बढ़ाने हेतु मैया उन्हें क्या-क्या खिलाती है ?  1

        (अ) माखन   (ब) दूध   (स) रोटी   (द) उपयुक्त सभी   ( )

उत्तर – (ब) दूध

प्रश्न – 7 योगेश ने गाय की रक्षा करने हेतु अपने प्राणों की बाजी लगा दी। रेखांकित मुहावरे का अर्थ है –    1

(अ) भाग जाना (ब) अत्यधिक प्रिय होना

(स) साहस पूर्ण कार्य करना (द) आकर्षित करना   ( )

उत्तर – (स) साहस पूर्ण कार्य करना

प्रश्न – 8 राम ने टोपी पहनी है। रेखांकित शब्द का बहुवचन होगा –   1

       (अ)  टोपिया  (ब) टोपीया  (स) टोपियाँ  (द) टोपीयाँ  ( )

उत्तर – (स) टोपियाँ 

कक्षा 8 मॉडल पेपर हिन्दी
कक्षा 8 मॉडल पेपर हिन्दी

अतिलाघुत्तरात्मक प्रश्न –

प्रश्न – 9 “हरे-हरे ये पात, डालियाँ, कलियाँ, कोमल गात” ‘ध्वनि’ कविता की इन पंक्तियों के अनुसार ‘हरे-हरे’ ये पात से क्या तात्पर्य है ?  2

उत्तर – हरे-हरे’ ये पात का तात्पर्य जीवन की खुशियों से है। जिस प्रकार वसंत आते ही पेड़-पौधों पर हरियाली छा जाती है, उसी प्रकार कवि अपने आदर्श के अनुरूप आचरण करके समाज के दुःखों को दूर करके सुख का वातावरण उत्पन्न करना चाहते है।

प्रश्न – 10 जिस प्रकार फिल्म में ‘कार’ प्रत्यय लगाने से ‘फिल्मकार’ बनता है इसी प्रकार ‘कार’ प्रत्यय लगाकर दो नए शब्द बनाइए।     2×1=2

उत्तर – (i) सलाह + कार = सलाहकार  (ii) गीत + कार = गीतकार

प्रश्न – 11 दिए गए व्यक्ति वाचक संज्ञा शब्द का वाक्य में प्रयोग कर लिखिए।     2×1=2

उत्तर – (i) जयपुर –  जयपुर को गुलाबी नगरी भी कहा जाता है

        (ii) गोविन्द – गोविन्द पुस्तक पढ़ता है

प्रश्न – 12 साइकिल चलाने के कोई दो लाभ लिखिए।  2×1=2

उत्तर – (i) साइकिल चलाने से शरीर के अंगों में गतिशीलता आती है जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है।

        (ii) पैदल चलने की तुलना में साइकिल से कहीं आने-जाने में समय की बचत होती है।

प्रश्न – 13 ‘दिन प्रति हानि होति गोरस की’ ‘गोरस’ शब्द का क्या आशय है?   2

उत्तर – गोरस शब्द का आशय है – दूध से बने पदार्थ – दही, मक्खन, घी आदि।

प्रश्न – 14 गवरइया को टोपी बनवानी थी इसलिए वह किस-किस के पास गई थी?  2

उत्तर – गवरइया टोपी बनवाने के लिए धुनिया, कोरी, बुनकर व दर्जी के पास गई।

लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न – 15 सड़क पर चलने हेतु यातायात संकेतों के चिह्न बनाकर उनके अर्थ लिखिए।  4×1=4

उत्तर –

यातायात संकेतों के चिह्न
यातायात संकेतों के चिह्न

प्रश्न – 16 ‘दीवानों की मस्ती’ पाठ के आधार पर बताइए कि हमें संसार को क्या देना तथा क्या लेना है?  4

उत्तर – ‘दीवानों की मस्ती’ पाठ के आधार पर कवि ने बताया है कि हमें संसार को खुशियाँ देनी चाहिए और लोगो के दुःख को हर लेना चाहते है।

प्रश्न – 17 निम्नलिखित शब्दों के पर्यायवाची शब्द का प्रयोग करते हुए एक-एक वाक्य लिखिए।  4×1=4

उत्तर – बादल – आसमान में काले मेघ के आते ही मोर नाचने लगते हैं।

        कमल – भगवान विष्णु का प्रिय पुष्प जलज है।

        आँख – प्रातःकाल जब वह घर आया तो उसके नयन लाल थे।

        पेड़ – वृक्ष से हमें छाया, फल, लकड़ी आदि मिलते है।

प्रश्न – 18 कबीर घास की निन्दा करने से क्यों मना करते हैं ? पठित दोहे के आधार पर स्पष्ट कीजिए।  4

उत्तर – कबीर ने दोहे में पैरों के नीचे रौंदी जाने वाली घास के बारे में बताया है कि हमें कभी भी उस रौंदी जाने वाली घास को कमजोर नहीं समझना चाहिए, क्योंकि यदि उस घास का छोटा-सा तिनका भी उड़कर आँख में पड़ जाए तो वह आँख में किरकिरी कर देता है और बैचेनी ला देता है। इसके माध्यम से उन्होंने बताया है कि समाज में रहने वाले छोटे-से-छोटे अर्थात् कमजोर व्यक्ति को भी हमें निर्बल मानकर सताना या दबाना नहीं चाहिए, क्योंकि समय आने पर वह भी शक्ति प्राप्त कर हम पर आघात कर सकता है।

प्रश्न – 19 ‘बच्चों के उधम मचाने पर घर की बहुत दुर्दशा हुई।’ ‘कामचोर’ कहानी के आधार पर इस बात के समर्थन में अपना मत दीजिए।

उत्तर – बच्चों के ऊधम मचाने के कारण घर में ऐसा लगने लगा कि तूफान आ गया हो। घर के बर्तन इधर-उधर बिखर गए। सारे घर में मुर्गियाँ और भेड़ें खुलकर इधर-उधर घूमने लगीं। घर में कीचड़ हो गया जिसमें दरी सनकर गीली हो गई। घर में पड़ी सब्जियों को भेड़ें खा गई।

प्रश्न – 20 ‘इस भेद को मेरे सिवाय मेरा ईश्वर ही जानता है। आप उसी से पूछ लिजिए। मैं नहीं बताऊँगा।’ बिलवासी के समर्थन में तर्क दीजिए।  4

उत्तर – बिलवासी जी झाऊलाल के पक्के मित्र थे। उनके लिए उन्होंने जो ढाई सौ रुपये का प्रबन्ध किया था। भेद वाली यह बात बिलवासी जी ने लाला झाऊलाल से कही।  ऐसा उन्होंने इसलिए कहा, क्योंकि वह अपनी पत्नी के सन्दूक से निकाले गए रुपयों की बात उनसे नहीं कहना चाहते थे।

प्रश्न – 21 ‘स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत’ पर चार पंक्तियाँ लिखिए।  4

उत्तर – स्वच्छता का तात्पर्य साफ-सफाई से है। सवच्छ रहना मनुष्य के लिए अतिआवश्यक है। क्योंकि इसके पीछे हमारी ‘निरोगी काया’ बनाए रखने की अवधारणा रहती है। इसीलिए सरकार ने ‘स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत’ अभियान चलाया था।

निबंधात्मक प्रश्न –

प्रश्न – 22 निम्नलिखित पद्यांश की सप्रसंग व्याख्या कीजिए –   8

आगे चना गुरूमातु दए ते, लए तुम चाबि हमें नहिं दिने ।

स्याम कह्या मुसकाय सुदामा सों, चोरी की बान में हौ जू प्रवीने ।।

पोटरि काँख में चाँपि रहे तुम, खोलत नाहिं सुधारस भीने ।

पाछिली बानि अजौ न तजो तुम, तैसई भाभी के तंदुल कोन्हे ।।

अथवा

पक्षी और बादल,

ये भगवान के डाकिए हैं,

जो एक महादेश से

दूसरे महादेश को जाते हैं।

हम तो समझ नहीं पाते हैं मगर उनकी लाई चिट्टियाँ

पेड़, पौधे, पानी और पहाड़

बाँचते है।

उत्तर – प्रसंग – यह पद्यांश हमारी पाठ्यपुस्तक वसंत भाग-3 की कविता ‘भगवान के डाकिए’ से लिया गया है। जिसके रचयिता श्री रामधारी सिंह दिनकर हैं। कवि यहाँ बताना चाहते है कि पक्षी और बादल भगवान के डाकिए हैं जो मुक्तभाव से विश्वबंधु का संदेश एक देश से दूसरे देश को पहुँचाना चाहते हैं।

व्याख्या – कवि के अनुसार पक्षी और बादल भगवान के डाकिए हैं। पक्षी एक देश से दूसरे देश में घूम-घूमकर और बादल इधर-उधर घुमड़-घुमड़कर आपसी भाईचारे का संदेश पूरी प्रकृति अर्थात् पेड़-पौधों, तालाब, नदियों, सागर व पर्वतों तक पहुँचाते हैं। कवि का मानना है कि पक्षी और बादलों के सन्देश को प्रकृति तो समझ लेती है, लेकिन उनके द्वारा दिए जाने वाले संदेशों को मनुष्य नहीं समझ पाते हैं।

प्रश्न – 23 निम्नलिखित गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर दिए गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए – 4×2=8

यह पिण्ड तेजी से सूर्य की और बढ़ रहा था। ज्यों-ज्यों पास आता जाता था, उसका आकार बढ़ता जाता था। यह सूर्य से लाखों गुना बड़ा था। उसकी महान शक्ति से हमारा सूर्य काँप उठा। ऐसा ज्ञात हुआ कि उस ग्रहराज से टकराकर हमारा सूर्य चूर्ण हो जाएगा। वैसा न हुआ । वह सूर्य से सहस्त्र मिल दूर से ही घूम चला, परंतु उसकी भीषण आकर्षण शक्ति के कारण सूर्य का एक भाग टूट कर उसके पीछे चला। सूर्य से टूटा हुआ भाग इतना भारी खिंचाव संभाल न सका और कई दुकड़ों में टूट गया। उन्हीं में से एक टुकड़ा हमारा पृथ्वी है। यह प्रारम्भ में एक बड़ा आग का गोला थी।

(i) पिण्ड किसकी और तेजी से बढ़ रहा था?

उत्तर – पिण्ड सूर्य की और तेजी बढ़ रहा था।

(ii) हमारी पृथ्वी प्रारम्भ में कैसी थी?

उत्तर – हमारी पृथ्वी प्रारम्भ में एक बड़ा आग का गोला थी।

(iii) पिण्ड की आकर्षण शक्ति से किसका एक भाग टूट गया था?

उत्तर – पिण्ड की आकर्षण शक्ति से सूर्य का एक भाग टूट गया था।

(iv) निम्नलिखित शब्दों के विपरीत अर्थ वाले शब्द गद्यांश से ढूंढकर लिखिए।

उत्तर- (i) हल्का – भारी

        (ii) अन्त – प्रारम्भ

प्रश्न – 24 आप रा.बा.उ.प्रा.वि. सज्जनपुर की छात्रा सोनिया कुमारी है। आपके पिताजी का स्थानातंरण जोधपुर हुआ है। आप अपनी आगे की पढ़ाई जोधपुर रहकर पूरी करना चाहते हैं। अपने प्राधानाध्यापक जी को स्थानांतरण प्रमाण-पत्र (टी.सी.) हेतु प्रार्थना-पत्र लिखिए।  8

अथवा

दुकानदार एवं ग्राहक के बीच संवाद को अपनी भाषा में 8 पंक्तियों में लिखिए।

ग्राहक – गुड़ क्या भाव दिया?

दुकानदार – चालीस रूपये किलो।

ग्राहक –

उत्तर – ग्राहक – मुझे पाँच किलो गुड़ चाहिए।

दुकानदार – अभी तोल देता हूँ।

ग्राहक – चलो तो दो।

दुकानदार – ये लिजिए आप के लिए पाँच किलो गुड़।

ग्राहक – ये लिजिए पाँच सौ रुपये। मेरे पास खुले रुपये नहीं है।

दुकानदार – कोई बात नहीं, मेरे पास है।

ग्राहक – कुछ नोट दस-दस के भी देना।

दुकानदार – (तीन सौ रुपये पकड़ाते हुए) ये लिजिए आपके बचे हुए रुपये।

प्रश्न – 25 निम्नलिखित में से किसी एक विषय पर निबंध लिखिए –   8

  • बालिका शिक्षा
  • पर्यावरण प्रदूषण
  • 21वीं सदी का भारत
  • बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ

उत्तर – बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ

प्रस्तावना – वर्तमान समय में कुछ सीमित सोच वाले लोग बेटे को कुलदीपक और बुढ़ापे का सहारा मानते हैं, तो बेटी को समस्याओं की जड़ समझते हैं। ऐसे लोग ही कन्या के जन्म को अशुभ मानते हैं।

सामाजिक चेतना का प्रसार – समाज का सही विकास हो, लोगों में नई चेतना का प्रसार हो, इस दृष्टि से सरकार ने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ का नारा दिया है। साथ ही सरकार लिंग परीक्षण को प्रतिबंधित कर, कन्या-जन्म और उसकी शिक्षा-व्यवस्था पर पूरा ध्यान दे रही है।

अभियान और उद्देश्य – ‘बेटी बचाओ, बेटी बढाओ’ अभियान के संबंध में हमारे राष्ट्रपति ने लोकसभा के दोनों सदनों को संयुक्त रूप से जून, 2014 को संबोधित किया। उसमें उन्होंने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा देकर उसके संरक्षण और सशक्तीकरण पर जोर दिया।

निष्कर्ष – ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान के माध्यम से हमारे समाज में जागरूकता के साथ ही रूढिवादी सोच में भी बदलाव आने लगा है। वह दिन अब दूर नहीं है जब बेटियों को समाज में सम्मानजनक स्थान प्राप्त हो सकेगा।

नोट – यह लेख केवल शैक्षिक उद्देश्य के लिए लिखा गया है. इसमें कक्षा 8 मॉडल पेपर हिन्दी को हल करने का उद्देश्य केवल छात्रों को प्रश्नोत्तर की समझ बनाना मात्र है.

कक्षा 8 मॉडल पेपर हिन्दी FAQ’s –

Q.1 क्या परीक्षा में यही प्रश्न आएंगे ?

उत्तर – नहीं, कक्षा 8 मॉडल पेपर हिन्दी पेपर में ये प्रश्न आने की कम संभावना है. लेकिन इस प्रकार के प्रश्न आएंगे जिनका अंक भार इस मॉडल पेपर के अनुसार होगा.

This Post Has 2 Comments

    1. मॉडल पेपर का प्रमुख उद्देश्य यह होता है कि विद्यार्थी यह समझ जाए की किस प्रकार के प्रश्न कितने नंबर के आएंगे. कुछ प्रश्न आ सकते है लेकिन सभी प्रश्न आने की कम ही संभावना रहती है.

प्रातिक्रिया दे

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.