यहाँ पर हम राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित प्राध्यापक भर्ती परीक्षा में हिंदी विषय के “हिंदी साहित्य का इतिहास” बिंदु से संबंधित जानकारी प्राप्त करेंगे

Read more about the article इतिहास लेखन परम्परा MCQ हिन्दी साहित्य | वस्तुनिष्ठ प्रश्न
इतिहास लेखन परम्परा MCQ

इतिहास लेखन परम्परा MCQ हिन्दी साहित्य | वस्तुनिष्ठ प्रश्न

इतिहास लेखन परम्परा MCQ Quiz वस्तुनिष्ठ प्रश्नोत्तर अगर आप हिन्दी साहित्य के इतिहास लेखन की परम्परा MCQ Quiz का अभ्यास करना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए उपयोगी होगा।…

Continue Readingइतिहास लेखन परम्परा MCQ हिन्दी साहित्य | वस्तुनिष्ठ प्रश्न
Read more about the article भारतेंदु युग
भारतेंदु युग

भारतेंदु युग

भारतेंदु युग डॉ. नगेन्द्र ने पुनर्जागरण काल या भारतेंदु युग का समय 1857 ई. से 1900 ई. माना है। आधुनिक काल के इस प्रथम चरण को भारतेंदु युग कहना इसलिए…

Continue Readingभारतेंदु युग
Read more about the article आधुनिक काल
आधुनिक काल

आधुनिक काल

आधुनिक काल नामकरण एवं समय सीमा- आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने हिंदी साहित्य के इतिहास के चौथे काल खंड को गद्य की प्रमुखता के कारण गद्यकाल नाम दिया है और इसकी…

Continue Readingआधुनिक काल

रीतिकाल

हिंदी साहित्य का रीतिकाल नामकरण आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने संवत् 1700 वि. से 1900 वि. (1643 ई. से 1843 ई.) तक के काल-खंड को रीतिकाल कहा है। मध्यकाल के दुसरे…

Continue Readingरीतिकाल
Read more about the article हिंदी में रामकाव्य
हिंदी में राम काव्य

हिंदी में रामकाव्य

हिंदी में रामकाव्य हिंदी में रामकाव्य की शुरुआत भक्तिकाल में हुई मानी जाती है। लेकिन उपलब्ध प्रमाणों से यह सिद्ध हो चुका है कि वाल्मीकि द्वारा संस्कृत भाषा में लिखित…

Continue Readingहिंदी में रामकाव्य

हिंदी में कृष्णकाव्य

हिंदी में कृष्णकाव्य           हिंदी में कृष्णकाव्य आदिकाल की सगुन भक्ति के अंतर्गत आता है। ऋग्वेद के कुछ सूक्तों के रचियता ऋषि कृष्ण हैं। छांदोग्य उपनिषद में भी आंगिरस के…

Continue Readingहिंदी में कृष्णकाव्य
Read more about the article हिंदी सूफी काव्य
हिंदी सूफी काव्य

हिंदी सूफी काव्य

हिंदी सूफी काव्य सूफी मत का वैचारिक आधार- भक्तिकाल की निर्गुण धारा के अंतर्गत हिंदी संत काव्य एवं हिंदी सूफी काव्य नामक दो शाखाएँ है। हिंदी सूफी काव्य के अन्य…

Continue Readingहिंदी सूफी काव्य

हिंदी संत काव्य

संत काव्य का दार्शनिक आधार है शंकराचार्य एवं उपनिषदों द्वारा प्रतिपादित अद्वैत दर्शन, नाथ पंथ, सूफी धर्म एवं इस्लाम। उपनिषदों में निरुपित ब्रह्म, जीव, जगत एवं माया के स्वरूप को संत कवियों ने ज्यों का त्यों ग्रहण किया।

Continue Readingहिंदी संत काव्य